• weather of jabalpur
  • 27°c

    Partly Cloudy

कहते है अगर आप में लगन और ईमानदारी है तो सफलता किसी की मोहताज़ नहीं होती|


आज हम बात कर रहे है अपने शहर जबलपुर के 25 वर्षीय प्रमोद जोधानी की, जिन्होंने काफी कम उम्र में दुनिया भर के टॉप 10 परसेंट वर्डप्रेस डेवलपर में अपनी जगह बना ली है | आईये जानते है उनकी ज़िन्दगी से जुड़े कुछ रोचक किस्से -

जानिए कैसे जबलपुर में रहकर प्रमोद शामिल हुए विश्व के सर्वश्रेष्ठ डेवेलोपेर्स की श्रेणी में

शुरुआती दौर


प्रमोद को बचपन से ही कंप्यूटर का शौक था | पर पढाई में बहुत ज्यादा रूचि न होने के कारण घर पर कई बार डांट भी खानी पड़ती थी | इंजीनियरिंग के 3rd इयर में आते आते उन्होंने अपनी पहली वेबसाइट बनायीं | कॉलेज कम्पलीट करने के बाद कुछ नया सीखने के लिए इंदौर में 1 वर्ष जॉब किया |


जबलपुर से लगाव होने के कारण वापस आकर वर्ष 2015 में खुद की कंपनी शुरू करी||


उतार चड़ाव


कंपनी शुरू करने के साथ में उतर चड़ाव आते गए| अनुभव की कमी की वजह से बहुत सी गलतिया की अंततः कंपनी से इस्तीफा देना पड़ा|


8 डॉलर से 40 डॉलर का सफ़र


उन्होंने हार नहीं मानी एवं दोबारा अकेले ही फ्रीलांसिंग पोर्टल की सहायता से काम शुरू किया| शुरुआत जहाँ 8 डॉलर पर ऑवर से हुई वही एक साल के अन्दर ही 40 डॉलर पर ऑवर के काम मिलने लगे| अच्छी कमाई के साथ साथ बड़े क्लाइंट्स भी मिले एवं दुनिया के टॉप 10 परसेंट फ्रीलान्सर्स में अपनी जगह भी बनायीं |


फिटनेस का महत्त्व


प्रमोद अपने कार्य के साथ फिटनेस को भी बहुत महत्त्व देते है | उनके मुताबिक दिनभर कंप्यूटर के सामने बैठ कर दिमागी कसरत करते रहने के लिए सुबह का शारीरिक व्यायाम बहुत ही महत्वपूर्ण है|


सफलता का श्रेय


सफलता का श्रेय वे अपने माता पिता एवं कॉलेज के शिक्षको को देते है  जिन्होंने हर कदम पर उनका साथ में सुझाव दिए| साथ ही वे JabalpurWala.com का आभार भी व्यक्त करते है जिसकी मदद से उन्होंने Webmania 2012 इवेंट में अपने हुनर को पहचाना |


पहली ख्वाइश


प्रमोद का सपना है की जबलपुर में एक ऐसा स्टार्टअप इकोसिस्टम विकसित किया जाये जिससे यहाँ के छात्र छात्राओ को रोजगार के लिए अन्य शहर ना जाना पड़े|


बदलता दौर


प्रमोद के मुताबिक आईटी कंपनियों में कार्य करने का तरीका बदल रहा है | पहले जहाँ लोग ऑफिस जाकर 10 से 12 घंटे कार्य करते थे, आज टेक्नोलॉजी के माध्यम से घर बैठे कार्य करना पसंद करते है | उनके मुताबिक दुनिया भर में फ्रीलान्सर्स की संख्या बढ़ती जा रही है|


जबलपुर के युवाओ को सन्देश


प्रमोद ने जबलपुर में रहकर ही दुनिया भर में नाम रोशन किया एवं जबलपुर के युवाओ के सामने एक मिसाल भी पेश की | उनके अनुसार अगर आप अपनी पसंद के कार्य को मन लगा कर करते रहे तो आपको एक दिन सफल होने से कोई नहीं रोक सकता |


Share it
Hosted with by Hostvanic